Love Parents





Today, most people think that their parents did nothing for them. Through 
this story, I will try that all of you listen to your parents care and 
talk and touch the stage in your life that your parents will be known by 
your name. Let's start the story.

A boy had started going to college that he demanded a motorcycle from his
father. But his father's condition was not such that he could get him a
motorcycle. But the boy started stubbornly and told his parents that you
guys do not love me at all. Then his father was forced to sell his old
scooter and was going to get a bike for his son. The son did not know this,
the son asks his mother where is Mommy Papa, his mother answers, son, he
went to get the bike for you. The boy hurriedly puts on his father's shoes.
On his way to the showroom wearing shoes, he has a strange prick in his
foot, to see when he removes the shoe, he sees that the condition of the
shoe was very bad and his father was forced to put the shoe in his shoes.
Were living. Dad asks my mother how to wear these shoes, shoes hurt my leg.
Then the mother answers, son, whatever money your father earns with so much
hard work, most of the money goes to your studies and home EMI, because of
this your father does not change them and every time he pretends that So
these shoes will last 2 months and those who have gone to buy your bike will
sell their scooters and then bring the bike for you in installments. When I
asked him how we would pay the money, he said as other things happen, this
too will happen. I do not want my boy to ever be disappointed for anything or
he feels that we do not love him and the job of parents is to fulfill every
need of children and then he left. He saw his father's clothes and wallet,
most of his clothes were torn and he was running those clothes by darn, then
when he saw his father's wallet, he had a lot of money, and there was a picture
of all three. In this he was his father and his mother. So tears came out of
his eyes, the boy immediately went to his father and father said to father, I do
not need a bike right now. I can also go by bus now. I was just joking, don't
sell your scooty, how will you go to duty? No matter for me, I will leave the
bus or else I will leave you. Right now my reading is necessary, not necessarily
a bike. After this, he hugged his father and started crying and said, "Father,
forgive me." I was asking you for the things that I do not need now and Papa,
today I promise you that I will work hard in my studies and show something
through which people will know you by my name and I will be your mother.
Will illuminate the name of. Then he and his father both happily came home.

Hope you guys like this story of mine. Try not to force your parents to do things 
that are outside of their budget. Never think twice before taking any item that is 
necessary for you at this time and secondly, does your family want that stuff Able 
to buy. And if possible, then pay attention to your future first, if you study 
right now or do something that will make your future bright, then it will be easier 
for you to buy things.




माता-पिता से प्रेम करो


आज के जमाने में ज्यादातर लोग यह सोचते हैं कि उनके माता-पिता ने उनके लिए कुछ नहीं किया । 
इस कहानी के जरिए मैं कोशिश करूंगा कि आप सभी अपने पेरेंट्स की केयर और बात सुने और 
अपने जीवन में उस मुकाम को छुए जिनसे आपके माता-पिता को आपके नाम से जाना जाए चलिए 
कहानी शुरू करते हैं ।

एक लड़का कॉलेज जाना शुरु ही किया था कि उसने अपने पिता से एक मोटरसाइकिल की मांग की।
मगर उसके पिता की हालत ऐसे नहीं थी कि वह उसे मोटरसाइकिल दिला पाए । लेकिन लड़का बहुत
ही जिद करने लगा और अपने माता-पिता से कहने लगा कि आप लोग मुझसे प्यार ही नहीं करते हो ।
फिर उसके पिता ने मजबूरन अपनी पुराने स्कूटर बेच कर अपने बेटे के लिए बाइक लेने जा रहे थे बेटे
को यह बात पता नहीं थी, बेटा अपनी मां से पूछता है मम्मी पापा कहां है उसकी मां जवाब देती है, बेटा
वह तेरे लिए बाइक लेने गए । लड़का जल्दबाजी में अपने पापा के जूते पहन लेता है। जूते पहनकर वह
शोरूम जाता है रास्ते में उसके पैर में अजीब सी चुभन होती है, देखने के लिए जब वह जूता उतारता है
तो देखता है कि जूते की कंडीशन बहुत ही ज्यादा खराब थी और उसके पापा जूतों में कील लगवा कर
उस जूते को मजबूरन चला रहे थे । मम्मी से पूछता है यह जूते पापा कैसे पहन लेते हैं जूतों में तो मेरे टांग
में चोट लगा दी । फिर मां जवाब देती है बेटा तेरे पापा इतनी मेहनत से जो भी पैसा कमाते हैं उसमें से
ज्यादातर पैसे तेरी पढ़ाई और घर के ई एम आई में चले जाते हैं, इस वजह से तेरे पापा इनको नहीं
बदलते और हर बार बहाना कर देते हैं कि अभी तो यह जूते 2 महीने और चलेंगे और अभी जो तेरी बाइक
लेने गए हैं वह अपने स्कूटर बेचकर फिर किस्तों पर तेरे लिए बाइक लाएगे । मैंने उनसे पूछा कि हम पैसे
कैसे भरेंगे तो उन्होंने कहा जैसे और चीजें होती हैं यह भी हो जाएंगी । मैं नहीं चाहता कि मेरा लड़का कभी
भी किसी भी चीज के लिए निराश हो या उसे लगे कि हम उससे प्यार नहीं करते और मां-बाप का काम ही
होता है बच्चों की हर जरूरत को पूरी करना फिर वह चले गए । उसने अपने पापा के कपड़े और बटुए को
देखा उनके ज्यादातर कपड़े फटे हुए थे और वह रफू करा कर उन कपड़ों को चला रहे थे, फिर उसने
अपने पापा के बटुए को देखा तो उसमे गिने-चुने पैसे थे, और उसमें तीनों की फोटो थी । इसमें वह उसके
पापा और उसकी मम्मी थे। तो उसकी आंख में से आंसू आ गए लड़का तुरंत अपने पापा के पास गया तो
पापा को बोला पापा मुझे अभी बाइक की जरूरत नहीं है । मैं अभी बस से भी जा सकता हूं । मैं तो सिर्फ
मजाक कर रहा था आप अपनी स्कूटी मत बेचिए आप ड्यूटी कैसे जाएंगे मेरे लिए कोई बात नहीं बस से
चला जाऊंगा नहीं तो मुझे आप छोड़ दीजिएगा । अभी मेरा पढ़ना जरूरी है, बाईक जरूरी नहीं है । इसके
बाद वह अपने पापा से गले मिलकर रोने लगा कहने लगा कि पापा मुझे माफ कर दीजिए । मैं आपसे उन
चीजों की मांग कर रहा था, जिनकी मुझे अभी जरूरत नहीं है और पापा आज मैं आपसे वादा करता हूं कि
अपनी पढ़ाई में जी जान लगाकर मेहनत करूंगा और कुछ बनकर दिखाऊंगा जिसके जरिए आपको लोग
मेरे नाम से जानेंगे और मैं आपका और मम्मी का नाम रोशन करुंगा। फिर वह और उसके पिताजी दोनों
हंसी-खुशी घर आ गए।

आशा करता हूं दोस्तों मेरी यह कहानी आपको अच्छी लगी होगी । कोशिश कीजिए कि अपने 
माता-पिताको कभी भी उन चीजों के लिए मजबूर ना करें जो उनके बजट के बाहर हो कभी भी 
कोई सामान लेने सेपहले दो बार सोचिए की वह सामान इस समय आपके लिए जरूरी है और 
दूसरा क्या आपकी फैमिली उससामान को खरीदने में सक्षम है। और हो सके तो आप पहले 
अपने भविष्य पर ध्यान दीजिए अगर आप अभी ढंग से पढ़ाई करेंगे या कुछ ऐसा करेंगे जिससे 
आपका भविष्य उज्जवल हो तो आप के लिए चीजों कोखरीदना आसान होगा।



Love Parents Love Parents Reviewed by Guptajee Dilliwale on April 26, 2020 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.